Seminar on Literacy Week

*जेसीडी मेमोरियल कॉलेज में साक्षरता सप्ताह के समापन पर सेमिनार आयोजित*
जागरूकता और चेतना के लिए शिक्षा ही है सर्वाधिक उपयुक्त साधन : प्रोफ़ेसर ढींडसा

सिरसा,12 सितंबर, 2023: उच्च शिक्षा विभाग के आदेशों के अनुसार, जेसीडी मेमोरियल कॉलेज ने एक साक्षरता सप्ताह का आयोजन किया, जिसका समापन शिक्षा के महत्व के विषय पर एक सेमिनार के साथ हुआ, जिसमें डॉ. शिखा गोयल ने शिक्षा के महत्व पर अपने विचार प्रस्तुत किए। इस सप्ताह योजना बद्ध तरीके से 4 सितंबर को जागरूकता रैली का आयोजन किया गया और 5 सितंबर को पोस्टर मेकिंग और सलोगन राइटिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

4 सितंबर को आयोजित जागरूकता रैली ने साक्षरता के महत्व को सार्वजनिक रूप से प्रकट किया और लोगों को शिक्षा के प्रति प्रेरित किया। वहीं 5 सितंबर को पोस्टर मेकिंग और सलोगन राइटिंग प्रतियोगिता ने विद्यार्थियों की रचनात्मकता को बढ़ावा दिया। विद्यार्थियों ने अपनी कल्पना का उपयोग करके साक्षरता के महत्व को प्रस्तुत किया।

जेसीडी विद्यापीठ के महानिदेशक और अंतरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त वैज्ञानिक प्रो. डॉ. कुलदीप सिंह ढींडसा ने कहा कि समाज में जन भागीदारी,जागरूकता के लिए शिक्षा का अहम योगदान है। एक अच्छी शिक्षा न केवल आपको कौशल सिखाती है बल्कि आपके क्षितिज को व्यापक बनाने, बेहतर परिप्रेक्ष्य हासिल करने में भी मदद करती है और आपको अपने बारे में सोचना सिखाती है। शिक्षा से समाज समानता और न्याय की ओर बढ़ता है जिसका असर हर चीज पर व्यापक रूप से पड़ता है।यह अच्छी बात है कि बीते कुछ दशकों में शिक्षा के प्रति लोग जागरूक हुए हैं और उसके परिणाम स्वरुप देश का साक्षरता प्रतिशत भी बढ़ा है। लेकिन इसके प्रति लगातार जागरूकता फैलाए जाने की जरूरत है और तब तक प्रयासरत रहने की आवश्यकता है जब तक हम शत प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त नहीं कर लेते।

डॉक्टर ढींडसा ने कहा कि जागरूकता और चेतना के लिए शिक्षा ही सर्वाधिक उपयुक्त साधन है इस दृष्टि से शिक्षा के अधिकार के अंतर्गत ही मानावाधिकारों की शिक्षा भी शामिल है। शिक्षा का उद्देश्य और उसका दायरा भी अत्यंत विस्तृत है। इसमें व्यक्तित्व का समग्र विकास सबसे महत्वपूर्ण है। जिसकी परिधि में बौद्धिक , मानसिक, नैतिक और शारीरिक विकास समाहित हैं।

प्राचार्या डॉ. शिखा गोयल ने साक्षरता सप्ताह के समापन के मौके पर आयोजित सेमिनार में शिक्षा के महत्व पर अपना दृष्टिकोण साझा किया। उन्होंने शिक्षा के महत्व और इसके प्रसार को लेकर अपने विचार बहुत ही प्रभावपूर्ण तरीके से प्रस्तुत किए।उन्होंने कहा कि जब कोई व्यक्ति कुछ नया पढ़ने योग्य होता है, तो वह नए विचार पैदा करता है और समस्याओं का समाधान ढूँढता है। यह उसके व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन को सुधारता है और सफलता की ओर एक कदम आगे बढ़ाता है।उन्होंने बताया कि शिक्षा हमारे समाज के विकास के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है और हमें इसके प्रति सक्रिय रूप से योगदान देना चाहिए।

इस साक्षरता सप्ताह का आयोजन जेसीडी मेमोरियल कॉलेज के प्रवक्ता पप्पल राम, शिखा मेहता, डॉ. बिंदिया, रचना कंबोज की देखरेख में विद्यार्थियों के लिए एक महत्वपूर्ण और ज्ञानवर्धन का अवसर था। इस सप्ताह का उद्देश्य साक्षरता के महत्व को बढ़ावा देना और विद्यार्थियों को शिक्षा के महत्व के साथ जागरूक करना था। पूरे सप्ताह इन कार्यक्रमों में शामिल रहे विद्यार्थियों ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि इस दौरान उन्हें बहुत कुछ नया सीखने को मिला और शिक्षा को लेकर विभिन्न दृष्टिकोण पता चले। यह भी पता चला कि इतने विकास के बावजूद समाज में एक बहुत बड़ा तबका है जो अभी भी शिक्षा से दूर है और हमें सभी को मिलकर उन्हें शिक्षा के जरिए मुख्य धारा में लाना चाहिए।