Fresher party- MA-BA-BMC Departments

एमए ,बीए एवम बीएमसी विभाग के सीनियर विद्यार्थियों ने आयोजित किया अपने जूनियर्स के स्वागत में सांस्कृतिक कार्यक्रम
जीवन में संघर्ष और कठिनाइयां आपके आने वाले कल को बेहतर बनाने के लिए आती हैं: डॉ शमीम शर्मा

सिरसा 17 जनवरी, 2021: जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित मैमोरियल कॉलेज में एमए ,बीए एवम बीएमसी विभाग के सीनियर विद्यार्थियों ने अपने जूनियर्स के स्वागत के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन करके उनका स्वागत किया। इस अवसर पर प्राचार्य डॉ जय प्रकाश की अध्यक्षता में जेसीडी विद्यापीठ की प्रबन्ध निदेशक डॉ शमीम शर्मा मुख्यातिथि रहीं साथ ही जेसीडी विद्यापीठ के सभी कॉलेज़ेज़ के प्राचार्यगण ने उपस्थित रह कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यातिथि तथा जेसीडी विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेज़ेज़ के प्राचार्यगण डॉ कुलदीप , डॉ. दिनेश कुमार गुप्ता , डॉ अनुपमा सेतिया, डॉ राजेंद्र कुमार , डेंटल कॉलेज के डायरेक्टर डॉ. राजेश्वर चावला व विद्यापीठ के रजिस्ट्रार सुधांशु गुप्ता द्वारा मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रवज्ज्वलित करके किया गयी । वहीं इस अवसर पर आर्ट्स व बीएमसी विभाग के विभागाध्यक्ष, शिक्षकगण एवं विद्यार्थीगणों द्वारा भी मुख्यातिथि एवं अन्य अतिथियों का गर्मजोशी से स्वागत किया गया। सर्वप्रथम कॉलेज के प्राचार्य डॉ जय प्रकाश ने मुख्यातिथि महोदय का स्वागत करते हुए नए विद्यार्थियों का स्वागत किया और कहा के एक विद्यार्थी के जीवन मे दृढ़ता और सहजता का होना बहुत जरूरी है जिससे चरित्र और स्वभाव दोनों का सकारात्मक विकास होता है।उन्होंने कहा के विद्यार्थी के जीवन में उसके शिक्षक की बहुत बड़ी भूमिका होती है इसलिये अपने शिक्षकों का सम्मान करना उनके नैतिक और मानसिक विकास के लिए बहुत ज़रूरी है उन्होंने कहा कि हमारा उद्देध्य हमारे विद्यार्थियों को बेहतर रास्ते पर अग्रसर करना है।उन्होंने कहा कि प्रत्येक विद्यार्थी में प्रतिभा छिपी होती है केवल जरूरत है तो उस प्रतिभा को निखारने हेतु बाहर निकालने की, जिसके लिए ऐसे कार्यक्रम बहुत लाभदायक साबित होते हैं। वहीं उन्होंने विद्यार्थियों को सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर भाग लेने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति अपनी लग्न एवं मेहनत के दम पर किसी भी उपलब्धि एवं सफलता को हासिल कर सकता है इसलिए आप सब भी बेहतर प्रयास करें।

बतौर मुख्यातिथि अपने संबोधन में डॉ शमीम शर्मा ने सर्वप्रथम विद्यार्थियों को अपना आशीर्वाद प्रदान करते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की और कहा कि आज के समय में जितना महत्व शिक्षा का है उतना ही कला एवं हुनर का भी है इसलिए अपनी शिक्षा के साथ-साथ प्रत्येक विद्यार्थी अपनी प्रतिभा को भी निखारने का सदैव प्रयास करें क्योंकि केवल विद्यालय या कॉलेज ही वह स्थान होता है जहां विद्यार्थी अपनी प्रतिभा को बेहतर तरीके से निखार सकता है। उन्होंने विद्यार्थियों को उनके सफल भविष्य की शुभ कामनाएं देते हुए उनसे निरंतर प्रयास करने के लिए प्रेरित किया । उन्होंने कहा कि संघर्ष के महत्व को ध्यान में रखते हुए हमारे युवा वर्ग को यह बात समझनी होगी कि अक्सर जीवन में संघर्ष और कठिनाइयां आपके आने वाले कल को बेहतर बनाने के लिए आती हैं इसलिए संघर्ष से भयभीत होने की कोई आवश्यकता नहीं मुश्किल और विषम परिस्थितियों में विजय हासिल करने का एक ही विकल्प है कि पूरे आत्मविश्वास के साथ संघर्ष करना I जो संघर्ष से बचकर चले वह कायर है I वहीं जो विद्यार्थी संघर्ष का स्वागत करता है वह एक न एक दिन सफल होकर अपने लक्ष्य को प्राप्त करता है l

इस अवसर पर विद्यार्थियों द्वारा अनेक सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी गई, जिन्होंने सभी सभागणों का मन मोह लिया। इसमें छात्र -छात्राओं ने जिमनास्टिक ,हरियाणवीं, पंजाबी,बॉलीवुड,हिपहॉप जैसी नृत्य विधाओं की प्रस्तुतियां दी। छात्रों ने सुगम-संगीत की जबदस्त प्रस्तुति देकर वाहवाही लूटी। इस अवसर पर समूह में विद्यार्थियों द्वारा सफलतम मंच संचालन भी किया गया। इस कार्यक्रम में बेहतर प्रदर्शन करने वाले एवं निर्णायक मण्डल द्वारा चयनित समस्त विद्यार्थियों को मुख्यातिथि महोदय, प्राचार्य जेसीडी मैमोरियल कॉलेज एवं समस्त अतिथियों द्वारा सम्मानित किया गया। सहायक प्रोफसर शिल्पी जैन व डॉ नीरू ने निर्णायक मंडली की भूमिका निभाते हुए परिणाम घोषित किये।विजेताओं में कुल तीनश्रेणियां रखी गयी जिसमें मिस और मिस्टर फ्रेशर, मिस और मिस्टर पर्सनालिटी ,मिस और मिस्टर इव शामिल रहे। एमए इंग्लिश विभाग से नवीन और महक मिस्टर और मिस फ्रशेर रहे।बीए विभाग से अमन व पायल मिस्टर और मिस इव रहे तो विक्रम व रीत मिस्टर और मिस पर्सनलिटी बने वंही अमन सिधु व हिमाद्रि ने मिस्टर और मिस का खिताब अपने नाम किया।बीएमसी विभाग से चिराग व सोनिया मिस्टर और मिस पर्सनलिटी रहे तो वंही करण व वंशिका मिस्टर और मिस फ्रशेर बने।

No Comments
Post a Comment
Name
E-mail
Website

JCDV Quiz